Pages

Monday, June 25, 2012

चलता चला जाता हूँ.....

चलता चला जाता हूँ
नई राह, नई डगर,
पगडंडियों की होर से दूर,
पदचिन्हों की गड्ड-मड्ड से बेखबर,
ना डर है, ना संशय है,
सामना करता हूँ,
चुनौतियों से लड़ता हूँ,
गिरता हूँ, पड़ता हूँ
लहूलुहान होता हूँ,
बस गीत गुनगुनाते,
चलता चला जाता हूँ
नई राह, नई डगर,
नहीं चाहिए बनी बनाई,
सपनो की सतरंगी बुनता हूँ ,
तक़दीर को चुनता हूँ,
निचे धरती ऊपर आसमान,
हवाओं संग झूमता हूँ,
डाली-डाली, फुल-फुल,
झुरमुट के ओर छोड़,
बस गीत गुनगुनाते,
चलता चला जाता हूँ
नई राह, नई डगर,
जीवन की नई रंगे, नई उमंगें,
प्रेरित करती है,
थकता नहीं बस,
करता हूँ प्रयास बार-बार,
दूर तक दिखता छितिज,
हौसला देता है,  
बस गीत गुनगुनाते,
चलता चला जाता हूँ
नई राह, नई डगर,
बस चलता चला जाता हूँ

1 comment:

Rohit Choudhury said...

Real good one,har us insan ke liye jo apni manzil se dur hai par har pal lad raha hai waha tak pahunchne ke liye!!!